सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

Personal tools

[ en | hi ]
Klingspor
पिसाई तकनीक
होम (घर) / hi > अपघर्षक पर जानकारी > क्या क्षय-प्रतिरोधी इस्पात को ज़ंग लग सकता है?

क्या क्षय-प्रतिरोधी इस्पात को ज़ंग लग सकता है?

परिचय

अगर हम क्षय-प्रतिरोधी अकलुष इस्पात जिसमें 10.5% से अधिक क्रोमियम (Cr) मिला हुआ है की बात करें तो उसमें भी ज़ंग लग सकता है. 20% से ऊपर क्रोमियम (Cr) तत्व और 8% से ऊपर निकल (Ni) तत्व वाले ऑस्टेनिटिक अकलुष इस्पात में भी गलत संभाल और प्रसंस्करण से या किसी संरचनात्मक दोष से ज़ंग लग सकता है.

निष्क्रिय परत

अकलुष इस्पात, सामान्य इस्पात जैसे ही ऑक्सीजन के साथ प्रतिक्रिया करके एक ऑक्साइड परत बनाता है. सामान्य इस्पात के मामले में, ऑक्सीजन मौज़ूदा लोहे के परमाणुओं के साथ प्रतिक्रिया करके एक छिद्रपूर्ण सतह बना लेता है जो इस अभिक्रिया को और आगे बढ़ाने में मदद करती है. इसके परिणामस्वरूप वर्कपीसों को पूरा “ज़ंग” लग सकता है. क्षय-प्रतिरोधी अकलुष इस्पात पर ऑक्सीजन इस्पात में अपेक्षाकृत उच्च सान्द्रता में मौजूद क्रोमियम परमाणुओं के साथ प्रतिक्रिया करता है. क्रोमियम और ऑक्सीजन के परमाणु एक गहन ऑक्साइड परत बना लेते हैं जो इस अभिक्रिया को आगे बढ़ने से रोकती है. इस ऑक्साइड परत को निष्क्रिय परत भी कहा जाता है क्योंकि यह परिवेश में निष्क्रिय रहती है. निष्क्रिय परत का गुण या स्थायित्व मुख्य रूप से इस्पात की मिश्रधातु संरचना पर निर्भर करता है.

क्षय

“क्षय-प्रतिरोधी” अकलुष इस्पात पर ज़ंग लगने के दो कारण होते हैं:

  • निष्क्रिय परत का न बन पाना, या
  • निष्क्रिय परत का क्षतिग्रस्त होना
     

निष्क्रिय परत के न बनने को सिर्फ़ एक उच्च कोटि की सफ़ाई से रोका जा सकता है. संसाधित सतहों से सभी अवशेषों को अच्छी तरह से साफ करके हटा देना चाहिए.

निम्नलिखित क्षय प्रकारों को निष्क्रिय परत के क्षतिग्रस्त होने की एक अनुवर्ती प्रक्रिया के आधार पर वर्णित किया गया है:

अपघर्षी सतही क्षय

अपघर्षी सतही क्षय का मतलब है वर्कपीस की सतह को एक समान हटाना. इस प्रकार का क्षय तब होता है जब कोई तेज़ाब या क्षारीय घोल का असर वर्कपीस पर होता है. यदि अपक्षरण की वार्षिक दर 0.1 mm से कम है, तो सामग्री को सतही क्षय प्रतिरोधी मान लिया जाता है.

ख़ंदक़ क्षय (पिटींग)

ख़ंदक़ क्षय में निष्क्रिय परत स्थानीय रूप से टूट जाती है. क्लोराइड के ईओण इस टूट के जिम्मेदार होते हैं, जो एक इलेक्ट्रोलाइट की उपस्थिति में अकलुष इस्पात को क्रोमेट से वंचित कर देते हैं. क्रोमेट निष्क्रिय परत के गठन के लिए आवश्यक है सुई की तरह छेद बनते हैं. जमाव, बाहरी ज़ंग, धातु की मैल के अवशेष या टेंपरिंग रंगों की मौजूदगी ख़ंदक़ क्षय में वृद्धि करती है.

इंटरक्रिस्टलाइन क्षय

इंटरक्रिस्टलाइन क्षय तब हो सकता है जब क्रोमियम कार्बाइड ताप के कारण दानों की सीमाओं पर जमा होकर फिर एक अम्लीय माध्यम की उपस्थिति में विघटित हो जाता है. यह निम्न तापमान पर होता है:

  • ऑस्टेनिटिक इस्पात के लिए 450° - 850°C
  • फेर्रिटिक इस्पात के लिए 900°C से अधिक
     

इंटरक्रिस्टलाइन क्षय में सही सामग्री के चुनाव की आज के समय में कोई भूमिका नहीं है.

संपर्क क्षय

संपर्क क्षय तब होता है जब अलग-अलग धातु की सामग्री एक दूसरे के संपर्क में आती है और इलेक्ट्रोलाइट द्वारा गीली हो जातीं हैं. कम श्रेष्ठ सामग्री पर हमला होता है और वह घोल में चली जातीं हैं. क्षय-प्रतिरोधी इस्पात अन्य धातुओं की सामग्रियों की तुलना में श्रेष्ठ हैं.


शब्द और परिभाषाओं पर वापिस जाएं
पिसाई संबंधित शब्द और परिभाषाओं को ब्राउज़ करें

Klingspor
सेवा विभाग

हॉटलाइन उत्पाद प्रबंधन


Fon +49 2773 922-456

Navigation Extended

Klingspor
सेवा विभाग

हॉटलाइन उत्पाद प्रबंधन


Fon +49 2773 922-456

Navigation Extended