सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

Personal tools

[ en | hi ]
Klingspor
पिसाई तकनीक
होम (घर) / hi > अपघर्षक पर जानकारी > इलेक्ट्रोस्टैटिक कोटिंग

इलेक्ट्रोस्टैटिक कोटिंग

लेपित अपघर्षकों (जैसे अपघर्षक रोलर, अपघर्षक बेल्टें, घर्षण शीट, आदि) के उत्पादन के दौरान, तल पर अपघर्षक दाने फैलाए जाते हैं और वही आसंजक और शीर्ष कोट से जड़ दिए जाते हैं.   इलेक्ट्रोस्टैटिक कोटिंग की तकनीक का उपयोग विशेष रूप से उच्च गुणवत्ता वाले अपघर्षकों पर किया जाता है.

इस कोटिंग प्रक्रिया के दौरान अपघर्षक दानें तल पर नीचे की ओर नहीं उतरते हैं, अपितु बिजली के वोल्टेज (50 kV) द्वारा समनुक्रमों के कोटिंग क्षेत्र में ऊपर खींच लिए जाते हैं, जहां वह तल पर लगाए गए आसंजक में प्रवेश करते हैं. अपने द्रव्यमान के वितरण और त्वरण के परिणामस्वरूप, अपघर्षक दानें हवा में यात्रा करते समय स्वयं को लम्बवत कर लेते हैं ताकि वे पहले अपने मोटे सिरे के साथ तल पर टकराएं और फिर आसंजक में चिपक कर गढ़ जाएं.
इससे यह सुनिश्चित होता है कि अपघर्षक दानों का रूक्ष सिरा आसंजक में हमेशा के लिए गढ़ा हुआ रहे, जबकि तीव्र और नुकीले सिरे पीसने की दिशा में रहते हैं. परिणामस्वरूप यह कोटिंग एक ऐसा उत्पाद उत्पन्न करती है जो बहुत अधिकआक्रामकतासे पिसाई करता है और शुरुआत से ही जिसकी स्टॉक हटाने की दर उच्च होती है.

Klingspor सारे लेपित अपघर्षकों की इलेक्ट्रोस्टेटिक कोटिंग के लिए P30 आमाप के या उससे भी बेहतर दानों का उपयोग करता है.    


शब्द और परिभाषाओं पर वापिस जाएं
पिसाई संबंधित शब्द और परिभाषाओं को ब्राउज़ करें

Klingspor
सेवा विभाग

हॉटलाइन उत्पाद प्रबंधन


Fon +49 2773 922-456

Navigation Extended

Klingspor
सेवा विभाग

हॉटलाइन उत्पाद प्रबंधन


Fon +49 2773 922-456

Navigation Extended